किसान आंदोलन के 100 दिन पूरे, दिल्ली के बाहर बड़ी ‘नाकेबंदी’ की योजना, 6 घंटे के लिए KMP एक्सप्रेस-वे जाम करेंगे किसान

06 मार्च को विभिन्न धरनास्थलों को जोड़ने वाले केएमपी एक्सप्रेस-वे पर 5 घंटे की नाकाबंदी की जाएगी। सुबह 11 बजे से शाम चार बजे के बीच सड़क जाम की जाएगी। यहां टोल प्लाजा को भी फ्री कराया जाएगा।

0
163
File Photo

नई दिल्ली: भारत सरकार द्वारा लाये गए तीन कृषि कानूनों के ख़िलाफ किसानों के आन्दोलन के 100 दिन लगभग पूरे हो चुके हैं लेकिन ये अब भी खत्म होता या कमज़ोर पड़ता नज़र नहीं आ रहा है। किसान अब भी दिल्ली की सीमाओं पर डट कर बैठे हैं तो वहीं दूसरी तरफ सिंघू बॉर्डर पर बैठे किसानों ने ऐलान किया है कि वो आन्दोलन को और तेज़ करेंगे। किसान संगठनों ने 06 मार्च यानी शनिवार को सुबह 11 बजे से शाम के 5 बजे तक केएमपी एक्सप्रेस-वे (KMP Express-Way) पर ट्रैफिक रोककर विरोध जताने का फैसला किया है। साथ ही साथ देश के अलग अलग हिस्सों में भी कार्यक्रमों का आयोजन किया जा रहा है। इस आन्दोलन से अब ज्यादा संख्या में युवाओं को जोड़ा जा रहा है।

खास बात तो ये है कि आंदोलन वाली जगह पर गर्मी से लड़ने के लिए अब पंखे, कूलर और एसी लगाए जाने का इंतजाम किया जा रहा है। इसके अलावा पीने के पानी, छबील और गन्ने के रस की व्यवस्था की जा रही है। यहां तक प्रदर्शन स्थलों पर बोरवेल भी लगवे गए हैं। 

सिंघु टोल प्लाजा बंद

किसानों के प्रदर्शन को देखते हुए दिल्ली पुलिस ने पहले से ही जीटी करनाल रोड पर दिल्ली की तरफ से बैरिकेडिंग कर रास्ता बंद कर रखा है। अब सिंघु बॉर्डर गांव के बीच में से कोंडली चौकी की तरफ जाने वाले रास्ते को भी सीमेंट के बैरिकेड लगाकर बंद कर दिया गया है। यहां से केवल पैदल और दोपहिया सवार को जाने की अनुमति है। कार समेत अन्य चार पहिया वाहनों को जोंती टोल से जीटी करनाल रोड पर जाने का रास्ता दिया गया है। सिंघु गांव के रास्ते में गांव वालों ने खेतों में पानी देने के लिए दो जगह खोद दिया है। रास्ते बंद होने से आसपास के गांव के लोगों और जीटी रोड इस्तेमाल करने वाले लाखों लोगों को परेशानी हो रही है। 

केएमपी एक्सप्रेस-वे पर नाकेबंदी की तैयारी

06 मार्च को विभिन्न धरनास्थलों को जोड़ने वाले केएमपी एक्सप्रेस-वे पर 5 घंटे की नाकाबंदी की जाएगी। सुबह 11 बजे से शाम चार बजे के बीच सड़क जाम की जाएगी। यहां टोल प्लाजा को भी फ्री कराया जाएगा।  

दिल्ली के अंदर से समर्थन जुटाने की कवायद

किसान आंदोलन के लिए दिल्ली के अंदर से समर्थन जुटाने की कवायद जारी है और इसको और तेज कर दिया गया है। इसके लिए दिल्ली प्रदेश किसान मजदूर मोर्चा का गठन किया गया है। इस मोर्चे के जरिए दिल्ली के अलग-अलग हिस्सों में महापंचायत करने की भी योजना है। किसान सोशल आर्मी की ओर से जंतर-मंतर पर 08 मार्च को कैंडल मार्च निकाला जाएगा। इसके जरिए किसान आंदोलन के दौरान शहीद हुए लोगों को श्रद्धांजलि देने के साथ-साथ से जुड़े मुद्दों पर ध्यान खींचा जाएगा।

चुनावी राज्यों में सरकार का विरोध

जिन राज्यों में चुनाव होने वाले हैं उन राज्यो में सरकार विरोधी प्रदर्शन किए जाएंगे। आठ मार्च को महिला किसान दिवस के रूप में मनाएगा। देशभर के सभी संयुक्त किसान मोर्चे के धरना स्थल आठ मार्च को महिलाएं संचालित करेंगी। इस दिन महिलाएं ही मंच प्रबंधन करेंगी और वक्ता भी होंगी। संयुक्त किसान मोर्चा ने उस दिन महिला संगठनों और अन्य लोगों को आमंत्रित किया है। किसानों ने केंद्रीय ट्रेड यूनियनों के आह्वान पर 15 मार्च को निजीकरण विरोधी दिवस का समर्थन किया है। किसान इस दिन को कॉरपोरेट विरोधी दिवस के रूप में मनाएंगे। 

For Advertisement & Paid Promotion, Please contact – 7011835550