कश्‍मीर के कुलगाम में आतंकी हमला, तीन बीजेपी नेताओं की गोली मारकर हत्या…

कश्‍मीर में ऐसा पहली बार हुआ है कि आतंकवादियों ने एक साथ इतने नेताओं की गोली मारकर हत्या की हो। हालांकि दो महीने पहले उन्‍होंने भाजपा समर्थित सरपंचों की हत्‍या जरूर कर दी थी।

0
361
Photo: ANI

जम्मूः कश्‍मीर के कुलगाम में एकबार फिर आतंकवादियों ने कोहराम मचाया है। आतंकवादियों ने भाजपा के तीन नेताओं की गोली मारकर हत्या कर दी है। इनमें से एक युवा मोर्चा के जनरल सेके्रटरी हैं और दो अन्‍य नेता हैं। पुलिस अधिकारियों के मुताबिक आतंकियों ने दक्षिण कश्‍मीर के कुलगाम जिले के योर काशीपोरा में भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश महासचिव फिदा हुसैन को अन्‍य दो साथी नेताओं समेत गोली मार दी। फिदा हुसैन ने अस्‍पताल ले जाते हुए दम तोड़ दिया जबकि दो अन्‍य भाजपा नेताओं ने बाद में अस्‍पताल में ही दम तोड़ दिया। अन्‍य मारे गए भाजपा नेताओं की पहचान उमर रमजान हजाम तथा वसीम अहमद के तौर पर की गई है। भाजपा के कश्‍मीर के मीडिया इंचार्ज मंजूर बट ने इन हत्‍याओं की पुष्टि की है।

कश्‍मीर में ऐसा पहली बार हुआ है कि आतंकवादियों ने एक साथ इतने नेताओं की गोली मारकर हत्या की हो। हालांकि दो महीने पहले उन्‍होंने भाजपा समर्थित सरपंचों की हत्‍या जरूर कर दी थी। फिदा हुसैन और उमर हाजम काजीगुंड के रहने वाले हैं। हुसैन पर तब हमला किया गया, जब वह कार्यकर्ताओं के साथ घर की ओर जा रहे थे। आतंकवादी एक गाड़ी पर आए, फायरिंग की और फरार हो गए। अधिकारियों ने बताया कि हमले की खबर मिलते ही अतिरिक्‍त सुरक्षाबलों को घटनास्‍थल पर भेज दिया गया है जिन्‍होंने आतंकियों की तलाश में व्‍याप्‍क अभियान छेड़ रखा है। कश्मीरी नेताओं ने इस हत्याकांड की खुल कर निंदा करते हुए मारे गए नेताओं के लिए शोक व्यक्त किया है।

https://twitter.com/OmarAbdullah/status/1321849535996469250

नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता उमर अब्दुल्ला ने हमले की निंदा की है। उन्होंने ट्वीट करके लिखा, ”दक्षिण कश्मीर के कुलगाम जिले से भयावह खबर मिली। मैं आतंकी हमले में 3 भाजपा कार्यकर्ताओं की लक्षित हत्या की निंदा करता हूं। अल्लाह उन्हें जन्नत में जगह दे और इस मुश्किल समय में उनके परिवार को ताकत मिले।”

https://twitter.com/MehboobaMufti/status/1321846087217414144

पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती ने भी इस घटना पर ट्वीट किया और लिखा, ”कुलगाम में भाजपा के तीन कार्यकर्ताओं की हत्या के बारे में सुनकर दुख हुआ। उनके परिवारों के प्रति संवेदना। आखिरकार, भारत सरकार की बीमार नीतियों की वजह से जम्मू-कश्मीर के लोगों को ही जान गंवानी पड़ती है।”