भारी घाटे के मझधार में फंसी एयर इंडिया, अगले 6 महीने में खरीदार नहीं मिला तो बंद हो सकती है कंपनी

सरकार के मुताबिक, वित्त वर्ष 2011-12 से इस साल दिसंबर तक सरकार कुल 30,520.21 करोड़ रुपये इसमें लगा चुकी है। यूपीए सरकार ने 2012 में 10 साल के लिए 30 हजार करोड़ रुपये की मदद की घोषणा की थी।

0
71
FILE Photo

मुंबई: एयर इंडिया कितने घाटे में चल रही है अब ये बात किसी से छिपी नहीं है। अब तो हालात ऐसे बन गए हैं कि अगर अगले 6 महीने के अंदर एयर इंडिया में विनिवेश नहीं हुआ तो कंपनी बंद भी हो सकती है। हालांकि सरकार प्राइवेट निवेशकों के खोज में लगी हुई है। मतलब साफ है कि अगर जून तक एयर इंडिया को कोई खरीददार नहीं मिला तो इसका हाल भी ठीक वैसा ही होगा जैसे जेट ऐयरवेज वाला हाल हो जाएगा। एयरलाइंस के अधिकारी के एक अधिकारी ने नामना छापने की शर्त पर कहा है कि एयर इंडिया को कोई खरीददार नहीं मिल रहा है और जल्द ही कोई खरीददार नहीं मिला तो जून तक कंपनी पर ताला भी लग सकता है।

अधिकारी के मुताबिक कंपनी के पास इतान भी पैसा नहीं है कि खड़े किए जा चुके 12 विमानों को दोबारा उड़ाने की व्यवस्था कर सके। आपको बता दें कि एयर इंडिया पर करीब 60 हजार करोड़ रुपये का कर्ज है और सरकार अभी भी विनिवेश के तौर-तरीकों पर काम कर रही है। वहीं दूसरी तरफ सरकार भी कर्ज में फंसी एयर इंडिया में और अधिक पैसे लगाने से इनकार कर चुकी है। निजीकरण की तैयारी के बीच विमानन कंपनी किसी तरह काम चला रही है। अधिकारी ने कहा कि टुकड़ों में व्यवस्था से अधिक दिन तक काम नहीं चलेगा।

वहीं दूसरी तरफ सरकार के मुताबिक, वित्त वर्ष 2011-12 से इस साल दिसंबर तक सरकार कुल 30,520.21 करोड़ रुपये इसमें लगा चुकी है। यूपीए सरकार ने 2012 में 10 साल के लिए 30 हजार करोड़ रुपये की मदद की घोषणा की थी। अधिकारी ने कहा कि हमने संचालन आवश्यकताओं के लिए सरकार से 2,400 रुपये की मांग की थी, लेकिन सरकार ने केवल 500 करोड़ रुपये पर हामी भरी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here