कच्चे तेल पर कोरोना का कहर, भारत में 20 डॉलर प्रति बैरल से नीचे आ सकता है ब्रेंट क्रूड

भारत में ब्रेंट क्रूड का दाम 20 डॉलर प्रति बैरल से नीचे गिर सकता है तो वहीं अमेरिकी लाइट क्रूड वेस्ट टेक्सास यानि WTI का दाम 17 डॉलर प्रति बैरल से नीचे तक गिर सकता है।

0
86

मुंबई:  दुनिया भर में फैले कोरोना वायरस का क़हर अब कच्चे तेल पर भी नज़र आने लगा है। कच्चे तेल का भाव अन्तर्राष्ट्रीय बाज़ार में इस साल अबतक के उंचे स्तर से 66 फीसदी से ज्यादा टूट चुका है। एक तरफ जहां अर्थव्यवस्था पर इसका बुरा असर पड़ रहा है तो वहीं दूसरी तरफ कच्चे तेल पर भी लगातार दबाव बना हुआ है। बाजार के जानकारों की मानें तो ब्रेंट क्रूड ऑयल का भाव 20 डॉलर प्रति बैरल से नीचे तक गिर सकता है। यहां आपको ये बता दें कि भारत क्रूड ऑयल का दुनिया में तीसरा सबसे बड़ा उपभोक्ता है लेकिन कोरोना वायरस के संक्रमण की वजह से केन्द्र सरकार ने पूरे देश लॉकडाउन घोषित कर दिया है जिसकी वजह से रेल, हवाई यातायात और सड़क यातायात पूरी तरह से बंद हैं और साथ ही साथ फैक्टरियां भी बंद हैं तो इसकी वजह से तेल का ख़पत घट गई हैं।

जानकारों के मुताबिक जहां भारत में ब्रेंट क्रूड का दाम 20 डॉलर प्रति बैरल से नीचे गिर सकता है तो वहीं अमेरिकी लाइट क्रूड वेस्ट टेक्सास यानि WTI का दाम 17 डॉलर प्रति बैरल से नीचे तक गिर सकता है। हालांकि जानकारों का ये भी कहना है कि कच्चे तेल के दाम में आगे होने वाली गिरावट ज्यादा दिनों तक नहीं रहने वाली है। बल्कि उसके बाद रिकवरी आएगी क्योंकि अमेरिका में तेल की उत्पादन लागत ज्यादा है इसलिए वो उत्पादन में कटौती कर सकता है। इसके बाद दूसरे प्रमुख तेल उत्पादक देश भी उत्पादन में कटौती करने को मजबूर होंगे जिससे इन कीमतों को मदद मिलेगी।