RBI का बड़ा एलान, रिवर्स रेपो रेट में कटौती, 4% से घटाकर 3.75% किया, रेपो रेट में कोई बदलाव नहीं

इससे पहले 27 मार्च को रेपो रेट में 0.75 फीसदी की कटौती का एलान किया था। रेपो रेट को 5.15 फीसदी से घटाकर 4.40 फीसदी किया गया था।

0
80
Photo: ANI

मुंबई: रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के गवर्नर शक्तिकांत दास ने शुक्रवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस किया, जिसमें उन्होंने कोरोनो संक्रमण के संकट के कारण बनी हुई ्आर्थिक स्थितियों पर बात की और भारतीय अर्थव्यवस्था के लिए कुछ बड़े एलान किए। शक्तिकांत दास ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए मीडिया को संबोधित किया। अपने इस प्रेस कॉन्फ्रेंस में उन्होंने इस बात की जानकारी दी कि रिवर्स रेपो रेट में 0.25 फीसदी की कटौती की गई है और इसे 4 फीसदी से घटाकर 3.75 फीसदी पर कर दिया गया है। साथ ही उन्होंने इस बात की भी जानकारी दी कि बैंक आरबीआई में पैसा रखने की बजाए लोगों को ज्यादा कर्ज दें इसलिए रिवर्स रेपो रेट में कटौती की गई है। रिवर्स रेपो रेट वो है जिस पर बैंक आरबीआई को कर्ज देते हैं।

आरबीआई के गवर्नर शक्तिकांत दास ने इस बात की भी जानकारी दी कि फिलहाल रेपो रेट दर में कोई बदलाव नहीं किया गया है और ये 4.4 फीसदी पर ही स्थिर रखा गया है। कुछ जरुरी ऐलान करते हुए उन्होंने कहा कि नाबार्ड को 25,000 करोड़ रुपये की मदद दी जाएगी। नेशनल हाउसिंग बैंक को 10 हजार करोड़ रुपये की मदद की जाएगी।SIDBI को 15 हजार करोड़ रुपये की मदद दी जाएगी। TLTRO-2 की शुक्रवार से शुरुआत करेंगे। टार्गेटेड लॉन्ग टर्म रेपो ऑपरेशंस यानी TLTRO के तहत  50,000 करोड़ रुपये से शुरुआत की जाएगी। उन्होंने इस बात की भी जानकारी दी कि देश में लॉकडाउन की स्थिति के दौरान 1.20 लाख करोड़ रुपये की करेंसी जारी की है. देश में 91 फीसदी एटीएम पूरी क्षमता से काम कर रहे हैं।

शक्तिकांत दास ने कहा कि दुनियाभर के बाजार गिरे हुए हैं और इसके चलते वैश्विक अर्थव्यवस्था में भारी गिरावट का अनुमान है। कोरोना वायरस संकट के कारण दुनिया बहुत बड़ी मंदी की और बढ़ रही है। हालांकि हम वित्तीय व्यवस्था को संभालने में लगे हुए हैं। देश में कैश की कमी नहीं होने दी जा रही है। आपको बता दें कि मंदी के बीच भारत की विकास दर 1.9 फीसदी रहने का अनुमान रखा गया है। हालांकि उन्होंने कहा कि जी-20 देशों में भारत की स्थिति फिर भी बेहतर है। देश में विदेशी मुद्रा का पर्याप्त भंडार है। कोरोना संक्रमण पर बात करते हुए उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस की महामारी से लड़ने के लिए देश पूरी शक्ति से लड़ रहा है। जरूरी सेवाओं के लिए जो डॉक्टर, नर्स, मैडिकल स्टाफ पुलिसकर्मी, बैंककर्मी और अन्य सभी जो काम कर रहे हैं, राष्ट्र उनके प्रति कृतज्ञ है।

आपको यहां इसबात की भी जानकारी दे दें कि 2020 के लिए आर्थिक संस्थानों ने अनुमान दिया है कि ग्लोबल जीडीपी को 9 ट्रिलियन अमेरिकी डॉलर का नुकसान होगा जो जापान जैसी अर्थव्यस्था के कुल खर्च से भी ज्यादा है। 2020-21 में आईएमएफ ने भी ग्लोबल जीडीपी के लिए भारी गिरावट का अनुमान दिया है जो कि बड़ी चिंता की बात है। वहीं इससे पहले भी आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने इससे पहले 27 मार्च को रेपो रेट में 0.75 फीसदी की कटौती का एलान किया था। रेपो रेट को 5.15 फीसदी से घटाकर 4.40 फीसदी किया गया था। रिवर्स रेपो रेट में भी 0.90 फीसदी की कटौती की थी और इसे 4.90 फीसदी से घटाकर 4 फीसदी किया था। वहीं बैंकों का सीआरआर भी 4 फीसदी से घटाकर 3 फीसदी कर दिया था। इसके अलावा बैंकों को भी कहा था कि वो ग्राहकों के लिए तीन महीने की ईएमआई टालने का विकल्प दें।