जब अभिनेता सोनू सूद ने कहा – अब फोन जरूर आएगा… अपना सामान बांध लो…

अभिनेता सोनू सूद ने अपने एक ट्वीट में श्रमिकों से अपील करते हुए लिखा, ''मेरे सभी प्रवासियों भाइयों और बहनों, अपने घरों तक पहुंचने के लिए आप सड़कों पर पैदल न चलें। हम आपकी मदद के लिए यहां हैं।''

0
82

मुंबई: कोरोना वायरस की संक्रमण से जो हालात देशभर में पैदा हुए हैं उससे देशभर से हलकान है। ऐसे में जगह जगह फंसे लोग जैसे तैसे करके अपने गन्तव्य तक पहुंचने की कोशिश कर रहे हैं। ऐसे में कई लोग अपने तरीके से भी जगह जगह लोगों की मदद कर रहे हैं। ऐसे में अभिनेता सोनू सूद भी अपने हिसाब से लोगों की मदद कर रहे हैं। अभिनेता सोनू सूद अपने खुद के खर्चों से प्रवासी लोगों को उनके उनके गृह राज्य भेज रहे हैं। ये बात भी सच है कि इस लॉकडाउन में अभिनेता सोनू सूद प्रवासी मजदूरों और आम लोगों के लिए वो एक सबसे बड़े मददगार के रुप में सामने आए हैं। उन्होंने हजारों बेबस और लाचार लोगों को अपने खर्चे पर बसों का इंतजाम कर उनको उनके घरों तक पहुंचने में मदद की है।

अभिनेता सोनू सूद की इस मदद ने अब लाखों भारतीयों के दिलों में एक खास जगह बना ली है। उनके मदद के चर्चे हर तरफ अब इस कदर फैल गए हैं कि लोग अब उन्हें ट्वीट कर उनसे मदद मांग रहे हैं। लोग उनसे इस उम्मीद के साथ मदद मांग रहे हैं कि शायद वो उनको उनके घर तक सुरक्षित पहुंचवा देंगे। इसबात का पता तब चला जब जब मुंबई में फंसे एक शख्स ने उन्हें ट्वीट किया और इसका जवाब सोनू सूद ने ऐसे दिया कि उसके लोग कायल हो गए हैं। मुंबई के गोरेगांव में फंसे हुए एक शख्स ने सोनू को ट्वीट किया, “मैंने फॉर्म भरा था और दिंडोशी गोरेगांव पुलिस स्टेशन में जमा करवाया था और उत्तर प्रदेश सरकार की जन सुनवाई ऐप पर भी रजिस्टर किया। लेकिन मुझे किसी ने कोई फोन नहीं किया, कृपया मेरी मदद करें। मैं बनारस का रहने वाला हूं।”

इस ट्वीट के बास सोनू सूद ने खास अंदाज से इसका जवाब देते हुए लिखा कि “वाराणसी कभी आएं तो चाय जरूर पिलाना भाई, तुम्हें अब फोन जरूर आएगा. अपना सामान बांध लो।”

सोनू के ट्विटर हैंडल पर नजर डाले तो उनका पूरा का पूरा हैंडल लोगों की मदद की गुहार से भरा पड़ा है। खास बात तो ये है कि खुद एक्टर सोनू सूद सभी की जवाब भी दे रहे हैं और लोगों को मदद का भरोसा भी दे रहे हैं और साथ ही साथ इस मुश्किल की घड़ी में हिम्मत भी दे रहे हैं। साथ ही सोनू ने प्रवासी मजदूरों से अपील भी की है कि वो सड़कों पर पैदल ना चलें। उन्होंने एक ट्वीट में श्रमिकों से अपील करते हुए लिखा, ”मेरे सभी प्रवासियों भाइयों और बहनों, अपने घरों तक पहुंचने के लिए आप सड़कों पर पैदल न चलें। हम आपकी मदद के लिए यहां हैं।”