वर्क फ्रॉम होम से Google को जबरदस्त फायदा, एक साल में ही बचा लिए करीब 7400 करोड़ रुपये…

कंपनी ने कोरोना के दौरान खर्चों को घटाया, रोका या कैंपेन को रीशेड्यूल किया। साथ ही कंपनी ने कुछ इवेंट्स को केवल डिजिटल फॉर्मेट में बदल दिया। ऐसे में ट्रैवल और एंटरटेनमेंट खर्च में भी करीब 371 मिलियन डॉलर की कमी आई।

0
320

नई दिल्ली: दुनिया भर में कोरोना महामारी की मार की वजह से वर्क फ्रॉम होम परंपरा की शुरुआत हुई और इससे कई कंपनियों को फायदा पहुंचा है। वर्क फ्रॉम होम की वजह से कर्मचरियों के उपर जो कंपनी का लागत होता है वो काफी कम हो गया है। इसी बीच दुनिया की सबसे दिग्गज टेक्नोलॉजी कंपनी गूगल को भी वर्क फ्रॉम होम की वजह से पिछले एक साल में 7400 करोड़ रुपये का फायदा हुआ है। गूगल की पैरेंट कंपनी अल्फाबेट इंक. ने इसबात की जानकारी दी है कि साल 2020 में एडवरटाइजिंग और प्रमोशनल खर्चों में 1.4 बिलियन डॉलर की कमी आई।

कंपनी ने कोरोना के दौरान खर्चों को घटाया, रोका या कैंपेन को रीशेड्यूल किया। साथ ही कंपनी ने कुछ इवेंट्स को केवल डिजिटल फॉर्मेट में बदल दिया। ऐसे में ट्रैवल और एंटरटेनमेंट खर्च में भी करीब 371 मिलियन डॉलर की कमी आई। गूगल अपने कर्मचारियों के मनोरंजन और उनके आराम के लिए काफी खर्च करती है। गूगल में कर्मचारियों के खाने, मनोरंजन और उन्हें आराम की सुविधा देने के लिए खासा खर्च किया जाता है। लेकिन वर्क फ्रॉम होम की  वजह से ये भत्ते कर्मचारियों को अब नहीं दिए जा रहे हैं।लिहाजा कंपनी का काफी पैसा बच जाता है।

हालांकि, गूगल के तरफ से इसबात की भी जानकारी मिली है कि इस साल के अंत में कंपनी दोबारा ऑफिस से काम शुरू करने की योजना बना रही है। चीफ फाइनेंशियल ऑफिसर रूथ पोराट ने निवेशकों को बताया कि कंपनी एक ‘हाइब्रिड’ मॉडल की योजना बना रही है, जिसमें कर्मचारियों की जगह पहले की तुलना में कम है। पोराट ने यह भी कहा कि गूगल दुनिया भर में रियल एस्टेट में निवेश कम करना नहीं चाहेगी।