MS Dhoni को कैसे मिली थी भारतीय टीम की कप्तानी? पूर्व BCCI अध्यक्ष ने किया खुलासा…

"कैप्टन कूल" के नाम से जाना जाने वाला "माही" भारतीय क्रिकेट टीम के उन कप्तानों से एक हैं जिन्होंने भारत को इन्टरनेशनल क्रिकेट में एक दो नहीं बल्कि कई सफलताएं दिलाई हैं।

0
346

नई दिल्ली: क्रिकेटर महेन्द्र सिंह धोनी का नाम उन क्रिकेटरों में लिया जाता है जिन्होंने भारतीय क्रिकेट टीम को एक नई पहचान दी है। “कैप्टन कूल” के नाम से जाना जाने वाला “माही” भारतीय क्रिकेट टीम के उन कप्तानों से एक हैं जिन्होंने भारत को इन्टरनेशनल क्रिकेट में एक दो नहीं बल्कि कई सफलताएं दिलाई हैं। एमएस धोनी की ही कप्तानी में भारतीय टीम ने 28 साल के बाद विश्व कप की ट्राफी को अपने नाम किया था। मतलब देश के सफलतम कप्तानों में से एक हैं महेन्द्र सिंह धोनी। लेकिन क्या आप जानते हैं कि मैदान में विकेट के पीछे रहने वाले और फिर अपनी पारी में बल्लेबाजी करने वाले महेन्द्र सिंह धोनी को भारतीय क्रिकेट टीम की कमान कैसे मिली?

महेन्द्र सिंह धोनी को कप्तान बनाए जाने की कहानी बड़ी ही दिलचस्प है। साल 2007 में जब भारत की टीम खेलने के लिए इंग्लैंड जाने वाली थी तो तात्कालिन कैप्टन राहुल द्रविड़ (Rahul Dravid) ने कप्तानी छोड़ने की बात की और हवाला दिया कि कप्तानी से उनके खेल पर बुरा असर पड़ रहा है। उस वक्त BCCI के अध्यक्ष शरद पवार साहब थे। उनके लिए ये चिंता का विषय था कि टीम इंग्लैंड के दौरे पर जाने वाली है और जो कप्तान है वो अपने पद से इस्तीफा देने की बात कह रहा है। इस बाबत शरद पवार की बात सचिन तेन्दुलकर से हुई औऱ उन्हें कप्तानी लेने की पेशकश की गई लेकिन सचिन ने भी मना कर दिया। लेकिन जब उनसे पूछा गया कि इस संकट की घड़ी में कौन टीम की नैया पार लगा सकता है तो सचिन ने महेन्द्र सिंह धोनी का नाम लिया।

कप्तानी के लिए महेन्द्र सिंह धोनी के नाम की पेशकश करते हुए सचिन ने ये भी कहा था महेन्द्र सिंह धोनी भारतीय क्रिकेट को एक नई उंचाई पर ले जाएगा और सचिन की वो बात सच भी निकली और आखिरकार महेन्द्र सिंह धोनी को भारतीय टीम की कप्तानी दे दी गई। आपको बता दें कि एक बात का खुलासा खुद शरद पवार ने ही एक कार्यक्रम के दौरान किया है। इस दौरान शरद पवार ने ये भी कहा – “पूर्व कप्तान एमएस धोनी उन क्रिकेटर्स में से हैं जिन्होंने भारतीय क्रिकेट (Indian Cricket) के लिए महान योगदान दिया है।” साथ ही साथ आपको ये भी बता दें कि एनसीपी (NCP) के नेता शरद पवार 2005 से 2008 के बीच बीसीसीआई (BCCI) के अध्यक्ष थे और साल 2007 में भारतीय टीम की कमान एमएस धोनी को सौंपी गई थी।