Bihar: मुजफ्फरपुर मे ज्वेलरी शॉप डकैती कांड का पर्दाफाश, अपराधी गिरफ्तार, जेवर व हथियार बरामद

इस घटना को हथियार से लैस तीन अपराधियों ने करीब चार लाख रुपये की जेवर लूट की घटना को अंजाम दिया था। एक अपराधी के भागने के क्रम में ही लोगों ने पकड़ लिया था।

0
199

मुजफ्फरपुर: शहर के नगर थाना क्षेत्र अंतर्गत पंकज मार्केट के नजदीक स्थित ज्वेलरी शॉप में शनिवार को हुए लूटकांड का पुलिस ने पर्दाफाश कर दिया है। इस घटना को हथियार से लैस तीन अपराधियों ने करीब चार लाख रुपये की जेवर लूट की घटना को अंजाम दिया था। जिसके बाद भागने के क्रम में एक अपराधी को स्थानीय लोगों ने कुछ जेवर के साथ पकड़कर पुलिस के हवाले किया था जबकि दो अपराधी फरार होने में कामयाब हो गए थे। पकड़े गए आरोपी के निशानदेही पर पुलिस ने जगह जगह पर छापेमारी कर देर शाम दोनों फरार अपराधियों के गिरफ्तार कर लिया।

एसएसपी जयंतकांत ने एक प्रेस वार्ता कर बताया कि सिटी एसपी राजेश कुमार के देख रेख में एसआइटी नगर और अहियापुर पुलिस पदाधिकारी के साथ फरार दोनों अपराधी और उसके एक साथी को भी नगर डीएसपी रामनरेश पासवान के नेतृत्व में छापेमारी कर अलग अलग इलाको से धर दबोचा गया। एसएसपी ने बताया कि सिटी एसपी राजेश कुमार के देखरेख में नगर डीएसपी राम नरेश पासवान के नेतृत्व में गठित टीम द्वारा छापेमारी की गयी जिसमें अंकुश कुमार उर्फ कुंदन कुमार, पिता मनोज कुमार सिंह को दादर पुलिस लाइन से, सिद्धार्थ कुमार उर्फ राजू पिता नागेंद्र साह कोल्हुआ पैगंबरपुर गौसिया मस्जिद के पास से और शेखर कुमार पिता सुरेश चौधरी जागरण चौक ब्रह्मपुरा थाने को एक स्कूटी, नशीला पदार्थ तथा घटना में प्रयोग किया गया लोडेड पिस्टल एवं देसी कट्टा के साथ गिरफ्तार किया गया। लूटे गये संपूर्ण चांदी के जेवर अंकुश कुमार के निशाने पर उसके घर से बरामद किया गया।

आपको बता दें कि पहले से भी शेखर कुमार पर कुढ़नी थाना में आर्म्स एक्ट समेत कई मामले दर्ज हैं। इसके अलावा अन्य अपराधियों की आपराधिक इतिहास खंगाला जा रहा है। पुलिस ने इन अपराधियों के पास से लूटी गई चांदी की सारी ज्वेलरी, दो मोटरसाइकिल और एक स्कूटी, चार मोबाइल फोन, तीन देसी पिस्टल एवं कट्टा, चार गोली व नशीला पदार्थ बरामद किया गया। छापेमारी दल में टाउन डीएसपी राम नरेश पासवान, प्रशिक्षु डीएसपी सियाराम यादव, नगर थानाध्यक्ष ओम प्रकाश, अहियापुर थानाध्यक्ष सुनील कुमार रजक, नगर थाना के पुलिस पदाधिकारी ओमप्रकाश, जितेंद्र पासवान, नागेश्वर मंडल, शैलेंद्र कुमार एवं नगर थाने के एसआईटी शामिल थे।