एक स्ट्डी में कहा गया है कि बच्चे अगर एंटीबायोटिक दवाइयों का सेवन अगर ज्यादा करते हैं तो ये उनके सेहत के लिये बेहद ही ख़तरनाक है। ये सिर्फ उनकी सेहत ही नहीं बल्कि उनकी जान के लिए भी ख़तरनाक है।