कैसे बनता है लज़ीज आटे का हलवा? इसके बनाने की विधि है बेहद ख़ास…

इस हलवे को या तो सीधा खा सकते हैं या फिर आलू-पूरी के साथ भी परोस सकते हैं या फिर खाने के बाद मिष्ठान के तौर पर भी परोस सकते हैं।

0
370

दोस्तों, यह बात उस वक़्त की है जब मै पांच साल की थी। पापा नियम से हर रविवार को गुरूद्वारा जाते थे और उनके साथ मैं भी जाती थी। लेकिन मैं गुरुद्वारे एक लालच की वजह से जाती थी और वो लालच था वहाँ रोज मिलने वाला प्रसाद। हर रविवार को गुरुद्वारे में कड़ाह प्रसाद बनता था जो मुझे बेहद ही पसंद था और उसका स्वाद ही मझे वहां खींच कर ले जाता था। तभी ये हलवा मेरे दिल के बेहद करीब है। फिर मैं बड़ी हुई तो हर लड़की की तरह मेरी भी शादी हो गई और जब मैं अपने ससुराल आई तो यहां मेरी सासु मां ने मेरे आने की खुशी में यही हलवा बनाया और फिर एक बार मुझे उसी प्रसाद की और मेरे पापा की याद आ गई।

फिर क्या था, जब भी मौका मिलता था तो मेरे घर में ये हलवा बन जाता था और आज भी जब मैं ये अपने किचन में बनाती हुं तो सारी यादें ताज़ा हो जाती हैं। अब जब ये हलवा मेरे दिल के इतने करीब है तो मैंने सोचा कि क्यों ना आज आपको भी इसके बारे में बताउं और ये बनता कैसे है इसके बारे में भी आपको जानकारी दूं। आज आपको इसको बनाने की विधि आपको सिखाउंगी। दोस्तों खास बात तो ये भी है कि इस हलवे को आप झटपट भी बना सकते हैं। क्योंकि इसको बनाने के लिए आपको किसी विशेष सामग्री की ज़रुरत नहीं पड़ती। ये बनता भी जल्दी है और लोगों को पसंद भी आता है।

सबसे पहले जानिये कि इसमें किस सामग्री की ज़रूरत पड़ती है…

सामग्री: आटा – 1 कप, चीनी – 1 कप, घी – 1 कप, पानी – 4 कप

बनाने की विधि: इसे बनाने के लिए सबसे पहले एक कड़ाही को गर्म आंच पर गर्म कर लें। फिर उसमें 1 कप घी डाल दें और उसे अच्छे से गर्म करें। जब घी गर्म हो जाए तो उसमें 1 कप आटा डाल दें। आटा डालने के बाद उसे कम आंच पर भुने। आटे को तब तक भुने जब तक वो पक कर हल्का भूरे रंग का ना हो जाए। अब एक दूसरा बर्तन लें और उसमें 4 कप पानी डाल दें औऱ उसमें 1 कप चीनी भी डाल दें और उसे तबतक पकाएं जब तक चीनी अच्छे से घुल ना जाए। जब ये चासनी अच्छी तरह से पक जाए तो उसे घी के साथ भुने हुए आटे में धीरे धीरे डालें और करछी घुमाते रहें। घुमाते रहने से फायदा ये होगा कि हलवा कड़ाही से चिपकेगा नहीं। जब आटे में चासनी अच्छे से घुल जाए तो उसको थोड़ा और पका दें। जब इसका रंग थोड़ा और भूरा हो जाए तो मतलब अब हलवा खाने के लिए तैयार है।

दोस्तों, कहते हैं कि जब आपका गला ख़राब हो या फिर सर्दी में ठंड लग गई हो तो उसमें ये हलवा फायदा पहुंचाता है। खैर अब हलवा आपका बन कर तैयार है जो स्वाद में मीठा और प्रकृति में नरम होता है। इस हलवे को या तो सीधा खा सकते हैं या फिर आलू-पूरी के साथ भी परोस सकते हैं या फिर खाने के बाद मिष्ठान के तौर पर भी परोस सकते हैं।

दोस्तों, कैसी लगी आपको मेरे द्वारा बताई गई हलवा बनाने की विधि? इस पर अपनी प्रतिक्रिया जरुर दें। मुझे ईमेल करें: poonam12arora@gmail.com । आप मेरे फेसबुक पेज पर भी अपनी प्रतिक्रिया दे सकते हैं। मेरे फेसबुक पेज है: https://www.facebook.com/Spoonaliciouss/ ….