VIDEO: CMIE का दावा, कोरोना की दूसरी लहर में 1 करोड़ से ज्यादा लोगों की गई नौकरी, मई में 12% रही बेरोजगारी दर

CMIE के मुताबिक उनके संगठन ने अप्रैल महीने के अंदर एक राष्ट्रव्यापी सर्वेक्षण किया। इस सर्वे में 1.75 लाख घरों को शामिल किया गया।

0
140

नई दिल्ली: कोरोना महामारी के चलते हुए लॉकडाउन के बाद देश में बहुत बड़े स्तर पर लोगों की नौकरियां गई। यहां तक एक बड़े वर्ग की आय भी पहले की तुलना में काफी घट गई है। ये हम नहीं कह रहे, बल्कि Center For Monitoring Indian Economy की तरफ से ये कहा गया है। दरअसल CMIE के सीईओ महेश व्यास ने इस बात की जानकारी दी है कि देश के अंदर कोरोना की दूसरी लहर में करीब 1 करोड़ लोगों को अपनी नौकरी गवानी पड़ी है। साथ ही साथ जब से कोरोना की लहर देश में चली है तब से लेकर अबतक 97 फीसदी परिवारों की इनकम में गिरावट दर्ज की गई है।

CMIE के मुताबिक देश में मई 2021 के अंदर बेरोजगारी दर 12% रही जबकि ये आंकड़ा अप्रैल 2021 में 8% था। CMIE ने लोगों की नौकरियां जाने का कारण पूरी तरह से कोरोना की पहली और दूसरी लहर को बताया है।

हालात सुधरने के बाद नौकरियां आएंगी

CMIE का मानना है कि ऐसा नहीं है कि ये हालात सुधरेंगे नहीं। संस्था के सीईओ का मानना है कि अब देश में कोरोना की दूसरी लहर का असर धीरे-धीरे कम होता जा रहा है तो ऐसे में अब उम्मीद है कि आने वाले समय में जैसे-जैसे अर्थव्यवस्था की गाड़ी पटरी पर लौटेगी तो लोगों को रोजगार भी मिलना शुरू हो जाएगा। हालांकि उन्होंने ये भी कहा कि जिन लोगों की एक बार नौकरी चली जाती है, उन्हें फिर से रोजगार मिलने में बहुत मुश्किलों का सामना करना पड़ता है, जबकि अनौपचारिक क्षेत्र की नौकरियां जल्दी वापस आती हैं।

देशभर में कराया गया सर्वे

CMIE के मुताबिक उनके संगठन ने अप्रैल महीने के अंदर एक राष्ट्रव्यापी सर्वेक्षण किया। इस सर्वे में 1.75 लाख घरों को शामिल किया गया। इस सर्वे में पिछले एक साल के दौरान आय सृजन पर एक संबंधित प्रवृत्ति को परखा गया। इस दौरान केवल 3 प्रतिशत परिवारों ने ही कहा कि आय में वृद्धि देखी गई, जबकि 55 प्रतिशत ने कहा कि उनकी आय में पिछले एक साल में गिरावट आई है। आपको बता दें कि देश में बेरोजगारी का स्तर पिछले साल रिकॉर्ड ऊंचाई पर पहुंच गया था। पिछले साल लॉकडाउन के कारण में मई 2020 में बेरोजगारी दर 23.5 प्रतिशत के रिकॉर्ड उच्च स्तर को छू गई थी।