हरियाणा विधानसभा चुनाव नतीजों के मद्देनज़र दुष्यंत चौटाला का दावा- जेजेपी के पास रहेगी सत्ता की चाबी

दुष्यंत चौटाला ने कहा, ''ना ही बीजेपी और ना ही कांग्रेस 40 सीटों का आंकड़ां पार कर पाएंगी। सत्ता की चाबी जननायक जनता पार्टी के हाथ में होगी।'' दुष्यंत चौटाला ने 2018 में इनेलो से अलग होकर जननायक जनता पार्टी (जेजेपी) बनाई है।

0
35
photo: ANI

नई दिल्ली: हरियाणा विधानसभा चुनाव के लिए मतों की गिनती जारी है और नतीजों का जो रुझान देखनों को मिला है इसे देख कर तो यही लगता है कि ना तो बीजेपी के पास पूर्ण बहुमत होगा और ना ही कांग्रेस के पास। ऐसे में किंगमेकर बनकर कोई उभरेगा तो पहली बार चुनाव लड़ रही दुष्यंत चौटाला की नई नवेली पार्टी जननायक जनता पार्टी। इसपर दुष्यंत चौटाला ने दावा भी कर दिया है कि बीजेपी और कांग्रेस दोनों में से कोई भी पार्टी 40 सीटें जीतने में कामयाब नहीं हो पाएगी। हालांकि नतीजे जो भी हों लेकिन जेजेपी के साथ जाने में कांग्रेस को कोई परहेज नहीं है। कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने पहले ही जेजेपी के साथ जाने की मंशा बता दी है।

किंगमेकर वाली भूमिका पर बात करते हुए दुष्यंत चौटाला ने कहा, ”ना ही बीजेपी और ना ही कांग्रेस 40 सीटों का आंकड़ां पार कर पाएंगी। सत्ता की चाबी जननायक जनता पार्टी के हाथ में होगी।” दुष्यंत चौटाला ने 2018 में इनेलो से अलग होकर जननायक जनता पार्टी (जेजेपी) बनाई है। 2019 में जेजेपी ने पहली बार लोकसभा चुनाव में अपनी किस्मत आजमाई थी, जिसमें पार्टी को करीब 7 फीसदी वोट मिले थे। ज्यादातर एग्जिट पोल्स की भविष्यवाणी पर गौर करें तो हरियाणा में बीजेपी 70 से अधिक सीटों के साथ सरकार बनाने में कामयाब हो सकती है।

कुछ एग्जिट पोल में ये भी संभावना जताई गई थी कि हरियाणा में किसी भी पार्टी को पूर्ण बहुमत नहीं मिलेगा। मतगणना के शुरु होने के बाद से तो रुझान आ रहे हैं वो भी इस ओर ही इशारा कर रहे हैं। अगर यही रुझान नतीजों में बदला तो सत्ता की चाबी जेजेपी और निर्दलीय उम्मीदवारों के पास होगी। आपको बता दें कि 2014 में बीजेपी ने 47 सीटें जीतकर पहली बार राज्य में अपने दम पर सरकार बनाई थी। इनेलो 19 सीटों के साथ दूसरे और कांग्रेस 15 सीटों के साथ तीसरे नंबर पर रही थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here