निर्भया के दोषियों को फांसी पर लटकाने की हुई डमी प्रैक्टिस, 20 मार्च को होनी है फांसी

20 मार्च की सुबह 5:30 बजे निर्भया रेप केस में दोषी मुकेश सिंह, पवन गुप्ता, विनय शर्मा और अक्षय कुमार सिंह को फांसी दी जानी है। सारी प्रक्रियाओं से गुजरने के बाद कोर्ट ने ब्लैक वारंट जारी कर फांसी का दिन और समय तय किया है।

0
137

नई दिल्‍ली: निर्भया के सभी दोषियों को 20 मार्च को फांसी होनी है और इसको लेकर तिहाड़ जेल प्रशासन ने अपनी पूरी तैयारी कर ली है। अबतक कयास यही लगाए जा रहे हैं कि तय तारिख के मुताबिक ही चारों दोषियों को फांसी होगी। इसके लिए मेरठ से जल्लाद पवन को बुलाया गया है और उसने भी वुधवार को चारों को फांसी देने की डमी प्रैक्टिस की है। इस प्रैक्टिस के तहत आरोपियों को फांसी देने की पूरी प्रक्रिया की जांच और रस्सी की मजबूती को आंकने का काम किया जाता है। यहां आपको ये बता दें कि जल्लाद पवन पहली बार किसी को फांसी देने जा रहा है जबकि उसके बाप-दादा पुश्तैनी जल्लाद रहे हैं। 

20 मार्च की सुबह 5:30 बजे निर्भया रेप केस में दोषी मुकेश सिंह, पवन गुप्ता, विनय शर्मा और अक्षय कुमार सिंह को फांसी दी जानी है। सारी प्रक्रियाओं से गुजरने के बाद कोर्ट ने ब्लैक वारंट जारी कर फांसी का दिन और समय तय किया है। इसके बाद ही तिहाड़ जेल प्रशासन ने पत्र लिखकर यूपी सरकार से 18 मार्च को पवन जल्लाद को फांसी देने के लिए दिल्ली बुलाया था। हालांकि इस फांसी को और टालने के लिए निर्भया के दोषियों के वकील अभी भी कई कानूनी दांव-पेंच का सहारा ले रहे हैं। लेकिन अब ये कयास लगाये जा रहे हैं कि चूकि अब कोई विकल्प दोषियों के पास नहीं बचा है तो तय कार्यक्रम के आधार पर ही दोषियों को फांसी दी जाएगी।