मुंबई: रविवार को मुंबई के मरीन ड्राइव के पास हिंदू जिमखाना से लेकर आजाद मैदान तक महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (एमएनएस) ने पाकिस्तानी और बांग्लादेशी घुसपैठियों के खिलाफ रैली निकाली। इस रैली का नेतृत्व खुद मनसे प्रमुख राज ठाकरे कर रहे थे। इस रैली में मांग की गई कि गैरकानूनी तरीके से भारत आए पाकिस्तानी और बांग्लादेशी मुसलमानों को देश के बाहर निकाला जाये। इस रैली को एक सफल रैली के रुप में देखी जा रही है। वहीं दूसरी तरफ काफी समय के बाद महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना ने इस तरह के रैली निकाली हो। इस रैली के पार्टी के तमाम अधिकारियों और कार्यकर्ताओं ने हिस्सा लिया।

रैली का नेतृत्व कर रहे मनसे प्रमुख राज ठाकरे ने मंच से सीएए के खिलाफ पूरे देश में आंदोलन कर रहे मुसलमानों से प्रदर्शन को खत्म करने की अपील की और कहा कि मुझे समझ में नहीं आता है कि मुस्लिम नागरिकता कानून (CAA) का विरोध कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि सीएए भारत में जन्मे मुसलमानों के लिए नहीं है। आप किसको अपनी ताकत दिखा रहे हैं?
इससे पहले भी 23 जनवरी को दिये अपने भाषण में मनसे प्रमुख राज ठाकरे ने कहा था “अगर एनआरसी से पाकिस्तानी और बांग्लादेशी घुसपैठियों को देश के बाहर निकाला जाता है तो मेरा पूरा समर्थन है।” ऐसे में राज ठाकरे ने जाहिर किया उनकी बीजेपी से नजदीकियां बढ़ रही हैं।