PMC बैंक के एक और खाताधारी की मौत, बैंक में जमा थे 2.25 करोड़, अबतक 5 लोगों की मौत

पीएमसी बैंक के कुछ अधिकारियों पर प्राइवेट रियल एस्टेट फर्म एचडीआईएल से सांठगांठ कर उसे कर्ज देने का आरोप है। इसके चलते अबतक 5 लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ी है।

0
735

नई दिल्ली: पंजाब और महाराष्ट्र कोऑपरेटिव बैंक की वजह से एक और मौत का मामला सामने आया है। बताया जा रहा है कि भारती सदरंगानी नाम की एक महिला की मौत हार्ट अटैक की वजह से मौत हो गई। हालांकि बाताया जा रहा है कि मृतक महिला का खाता तो इस बैंक में नहीं था बल्कि उनके बेटियों की पूरी जिंदगी की गाढ़ी कमाई इस बैंक में जमा है जो करीब 2.25 करोड़ के आसपास है और इस बात को लेकर महिला चिंतित थी। इससे पहले भी इस बैंक की वजह से 4 मौत हो चुकि हैं। 18 अक्टूबर को मुकलीधर आसनदास धारा नाम के एक शख्स की मौत हो गई थी। परिवार वालों का आरोप है कि पैसे नहीं होने के कारण उनका समय पर इलाज नहीं हो सका, जिसकी वजह से उनकी मौत हो गई।

इससे पहले भी दो और खाताधारकों संजय गुलाटी और फत्तेमल पंजाबी की दिल का दौरा पड़ने से मौत हो चुकी है, जो बैंक में जमा अपने पैसों को लेकर बेहद चिंतित थे। संजय ने भी पीएमसी में 90 लाख रुपये जमा थे। संजय के बाद मुंबई के मुलुंद इलाके के रहने वाले फत्तेमल पंजाबी की बीते मंगलवार को मौत हो गई थी। वह बैंक के लिए घर से निकल रहे थे, तभी उन्हें दिल का दौरा पड़ा। तीसरी मौत 39 साल की एक डॉक्टर की हुई है, जो डिप्रेशन से जूझ रही थी और उन्होंने कथित तौर पर आत्महत्या कर ली। हालांकि पुलिस का कहना है कि अभी यह स्पष्ट नहीं है कि उन्होंने आत्महत्या की है या नहीं। इस महिला का खाता भी इसी बैंक में था।

आपको बता दें कि पीएमसी बैंक के कुछ अधिकारियों पर प्राइवेट रियल एस्टेट फर्म एचडीआईएल से सांठगांठ कर उसे कर्ज देने का आरोप है। कहा जा रहा है कि इसके चलते बैंक को 4355 करोड़ रु का नुकसान हो गया है जिससे आम ग्राहक जरूरत के हिसाब से पैसा नहीं निकाल पा रहे और उन पर अपनी गाढ़ी कमाई खोने का खतरा मंडरा रहा है। फिलहाल बैंक के खाताधारक 6 महीने की पाबंदी की अवधि में केवल 40 हजार रुपये ही निकाल सकते हैं।