करतारपुर कॉरिडोर को लेकर पाकिस्तान का नया पैंतरा, लगाया 20 डॉलर का जजिया टैक्स, कहा – पैसा नहीं तो दर्शन नहीं

करतारपुर कॉरिडोर के खुलने के बाद से हर रोज 5000 श्रद्धालु दर्शन के लिए जाएंगे। लेकिन पाकिस्तान के इस पैंतरे ने एक नया विवाद खड़ा कर दिया है। हैरान करने वाली बात तो ये है कि पाकिस्तान ने इस जाजिया टैक्स को हटाने से भी साफ इंकार कर दिया है।

0
66

नई दिल्ली: 8 नवंबर को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी भारत की तरफ से करतारपुर कॉरिडोर का उद्घाटन करने वाले हैं लेकिन इससे ठीक पहले पाकिस्तान ने अब नया पैंतरा चला है। पाकिस्तान ने भारत के लोगों के लिए करतारपुर साहिब के दर्शन के लिए जाजिया टैक्स का ऐलान कर दिया है। पाकिस्तान की इमरान खान सरकार ने ये घोषणा की है कि जो भी हिन्दुतानी करतारपुर साहिब में मथ्था टेकेगा उसे जाजिया टैक्स के तौर पर 1500 रुपये अदा करने होंगे। मतलब अगर आप पाकिस्तान सरकार को ये रकम अदा नहीं करेंगे तो पाकिस्तान सरकार आपको करतारपुर साहिब में मत्था टेकने की इजाजत नहीं देगी। यानि पैसे नहीं तो दर्शन नहीं। जबकि भारत सरकार शुरु से ही मुफ्त दर्शन की मांग करती आ रही है।

भारत सरकार 20 अक्टूबर से करतारपुर कॉरिडोर जाने वाले यात्रियों के लिए ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन शुरु करने जा रही है। इसकी जानकारी खुद लैंड पोर्ट ऑथोरिटी ऑफ इंडिया के चेयरमैन गोविंद मोहन ने दी। उनके मुताबिक करतारपुर कॉरिडोर के खुलने के बाद से हर रोज 5000 श्रद्धालु दर्शन के लिए जाएंगे। लेकिन पाकिस्तान के इस पैंतरे ने एक नया विवाद खड़ा कर दिया है। हैरान करने वाली बात तो ये है कि पाकिस्तान ने इस जाजिया टैक्स को हटाने से भी साफ इंकार कर दिया है। हालांकि पाकिस्तान ने पहले भारतीयों के लिए मुफ्त में दर्शन की बात कही थी। लेकिन अब पाकिस्तान अपनी इस बात से मुकर गया है।

हालांकि पाकिस्तान सिर्फ इसी बात से नहीं मुकरा है बल्कि करतारपुर कॉरिडोर परियोजना के चरण में तो सड़क के जरिए पाकिस्तान में प्रवेश मिलेगा लेकिन जैसे ही नदी में बाढ़ आएगी यह सड़क डूब जाएगी। पाकिस्तान ने इस जगह पर पुल बनाने की बात कही थी लेकिन बाद में अपनी बात से मुकर गया और उसका कहना है कि वह पुल महीने बाद बनाना शुरू करेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here