शाहीन बाग मामले में अब सोमवार को होगी सुनवाई, SC ने कहा- चुनाव बाद सुनवाई करना उचित

सीएए और एनआरसी को लेकर 55 दिनों से ज्यादा दिनों से दिल्ली के शाहीन बाग इलाके में लगातार प्रदर्शन हो रहा है। दिल्ली को नोएडा से जोड़ने वाली मुख्य सड़क को बंद कर दिया गया है।

0
44
FILE Photo

नई दिल्ली: दिल्ली के शाहीन बाग इलाके में सीएए और एनआरसी के खिलाफ चल रहे धरना प्रदर्शन मामले सुप्रीम कोर्ट तक पहुंच चुका है। शुक्रवार को इस मामले पर कोर्ट सुनवाई होने वाली थी लेकिन अब ये सुनवाई सोमवार तक के लिए टल गई है। इसके लिए सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली विधानसभा चुनाव का हवाला दिया है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि क्योंकि दिल्ली में चुनाव हैं, ऐसे में इस मामले पर सोमवार को सुनवाई करना उचित होगा। सुप्रीम कोर्ट में दायर इन याचिकाओं में दिल्ली को नोएडा से जोड़ने वाली अहम सड़क के बंद हो जाने से लाखों लोगों को हो रही दिक्कत का सवाल उठाया गया है। आपको यहां बता दें कि दिल्ली के शाहीन बाग इलाके में करीब 55 दिनों से धरना प्रदर्शन जारी है।

सुप्रीम कोर्ट में दायर याचिका में मांग की गई है कि कोर्ट पुलिस को ये देखने को कहे कि वहां लोगों को संबोधित करने वाले लोग किन संगठनों से आते हैं। कहीं उनका मकसद देशविरोधी गतिविधियों के लिए लोगों को भड़काना तो नहीं है। सोमवार को सुप्रीम कोर्ट इस मामले पर सुनवाई सुबह से सवा 11 बजे से शुरु होगी। वहीं दूसरी तरफ सीएए विरोधी प्रदर्शनकारियों ने जामिया मिल्लिया इस्लामिया और शाहीन बाग में सुरक्षा बढ़ाने की मांग की है। इन इलाकों में हाल में गोलियां चलने की घटनाएं हुई थीं। प्रदर्शनकारियों ने आशंका जताई कि 8 फरवरी को दिल्ली विधानसभा चुनाव के दौरान ऐसी और भी घटनाएं हो सकती है। जामिया नगर के निकट एक सप्ताह में गोलियां चलाने की तीन घटनाएं हुई हैं।

आपको बता दें कि सीएए और एनआरसी को लेकर 55 दिनों से ज्यादा दिनों से दिल्ली के शाहीन बाग इलाके में लगातार प्रदर्शन हो रहा है। दिल्ली को नोएडा से जोड़ने वाली मुख्य सड़क को बंद कर दिया गया है। इस प्रदर्शन में बड़ी संख्या में महिलाएं शामिल हैं। प्रदर्शनकारी लगातार मोदी सरकार पर संविधान को कुचलने और लोकतंत्र को खत्म करने जैसे आरोप लगा रहे हैं। प्रदर्शनकारियों की मांग है कि जबतक सरकार इस कानून को वापस नहीं लेती, तबतक उनका प्रदर्शन जारी रहेगा। सिर्फ शाहीन बाग की नहीं बल्कि पूरे देश में करीब 700 जगहों पर इस तर्ज पर विरोध प्रदर्शन चल रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here