पेट्रोल – डीज़ल के बढ़ते दामों को लेकर नीति आयोग का बड़ा बयान, कहा – सरकार को हस्तक्षेप करना चाहिये…

देश की राजधानी दिल्ली में पेट्रोल 94.76 रुपए प्रति लीटर जबकि डीजल 85.66 रुपए प्रति लीटर की दर से बेचा जा रहा है।

0
178

नई दिल्ली: देश में एक तरफ कोरोना की मार है तो दूसरी तरफ पेट्रोल-डीजल के बढ़ते दामों से हाहाकार है। पेट्रोल-डीजल के दामों में आई बढ़ोतरी की वजह से आम जनमानस के घर के बजट पर इसका सीधा असर हुआ है। वहीं जरुरत की चीजों के दामों पर इसका व्यापक असर पड़ा है। अब इसको लेकर नीति आयोग ने भी टिप्पणी की है। नीति आयोग के चेयरमैन राजीव कुमार ने कहा है कि “इसको लेकर सरकार को कुछ करना चाहिये। लेकिन हमें संतुलन की भी जरुरत है।”

जून में अर्थव्यवस्था सुधरने की उम्मीद

साथ ही उन्होंने ये भी कहा है कि महंगाई पर नियंत्रण की जिम्मेदारी सरकार की, उम्मीद है कि जिन पर यह जिम्मेदारी होगी वे संतुलन बनाएंगे। इसके अलावा उन्होंने भारतीय अर्थव्यवस्था को लेकर भी बड़ा बयान दिया है, उनके मुताबिक भारतीय अर्थव्यवस्था की हालत जून से सुधरेगी और जुलाई से रफ्तार पकड़ेगी। राजीव कुमार ने बताया कि भारत की अर्थव्यवस्था वित्त वर्ष 2022 में 10 फीसदी से 10.5 फीसदी की गति से आगे बढ़ेगी।

कई जगहों पर पेट्रोल 100 के पार

आपको बता दें कि देश में पेट्रोल-डीजल के दामों में बेतहाशा वृद्धि हो रही है। देश के कई जिलों में पेट्रोल की कीमतें 100 के पार तक जा पहुंची है। देश की राजधानी दिल्ली में पेट्रोल 94.76 रुपए प्रति लीटर जबकि डीजल 85.66 रुपए प्रति लीटर की दर से बेचा जा रहा है। मुंबई में 1 लीटर पेट्रोल की कीमत 101 रुपए पहुंच गई है। देश के करीब 135 जिलों में पेट्रोल की कीमतें 100 रुपए के पार चली गई हैं।