झारखंड विधान सभा चुनाव से ठीक पहले विपक्षी पार्टियों को बड़ा झटका, 6 विधायक बीजेपी में शामिल

बीजेपी में शामिल होने की घोषणा से पहले इनके बीच कई दौर की बातचीत के बाद मुख्यमंत्री रघुवर दास की मौजुदगी में सुबह करीब 11 बजे प्रदेश पार्टी कार्यालय में बीजेपी की सदस्यता ग्रहण कर ली।

0
121
Photo: ANI

रांची: झारखंड में विधान सभा चुनाव के लिए बिगुल बजने वाला है और उससे ठीक पहले विपक्षी पार्टियों को एक बड़ा झटका लगा है। कांग्रेस सहित अन्य पार्टियों के 6 विधायक बीजेपी में शामिल हो गए है। बीजेपी में शामिल होने की घोषणा से पहले इनके बीच कई दौर की बातचीत के बाद मुख्यमंत्री रघुवर दास की मौजुदगी में सुबह करीब 11 बजे प्रदेश पार्टी कार्यालय में बीजेपी की सदस्यता ग्रहण कर ली। हालांकि उम्मीद ये भी जताई जा रही है कि कुछ और विधायक भी विपक्षी पार्टियों से टूट कर बीजेपी में शामिल हो सकते हैं। बीजेपी में शामिल होने वाले इन सभी 6 विधायकों का कई महीनों से पार्टी में शामिल होने की बात चल रही थी।

प्रदेश कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष सुखदेव भगत और मनोज यादव बीजेपी में शामिल हुए। साथ ही कांग्रेस के एक और विधायक बादल पत्रलेख भी अपनी पार्टी को अलविदा कहते हुए बीजेपी में शामिल हो गए हैं। सुखदेव भगत काफी समय से प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष रामेश्वर उरांव से नाराज चल रहे हैं और उन्हें लगता है कि उरांव के दांव के कारण लोकसभा चुनाव में उनकी हार हुई। मनोज यादव भी चतरा सीट से लोकसभा चुनाव लड़े थे और बीजेपी से हार गए थे। कुणाल सारंगी और जेएमएम के निलंबित विधायक जेपी पटेल ने भी झारखंड मुक्ति मोर्चा छोड़कर बीजेपी में शामिल होने जा रहे हैं। AIFB के भानु प्रताप शाही भी बीजेपी के खेमे में जा रहे हैं।

Photo: ANI

प्रदेश में बीजेपी की सरकार है और इसबार भी पार्टी अपनी सरकार बनवाने के लिए कोई कोर कसर नहीं छोड़ रही है। काफी पहले से ही बीजेपी ने यहां चुनाव की तैयारियां भी शुरु कर दिया है। खुद मुख्यमंत्री कई जनसभाओं को संबोधित कर चुके हैं। ऐसा माना जाता है कि झारखंड में बीजेपी की लहर है और यही कारण है कि हवा का रुख देख कर ही विपक्षी पार्टियों के नेता बीजेपी में शामिल होने जा रहे हैं। बीजेपी रणनीतिकारों की नजर विपक्ष के कब्जे वाली मजबूत सीट पर है और उनके विधायक निशाने पर हैं।

आपको बता दें कि झारखंड में विधानसभा की कुल 81 सीटें हैं, जिसमें बीजेपी ने 37 सीटों पर कब्जा कर रखा है। इसके अलावा कांग्रेस का प्रदर्शन कुछ खास नहीं था और वो 6 सीटें जीतने में ही कामयाब हो पाई थी। शिबू सोरेन की झारखंड मुक्ति मोर्चा 19 सीटें जीतने में कामयाब रही थी। बाबू लाल मरांडी की झारखंड विकास मोर्चा ने 8 सीटें हासिल की थीं। 4 सीटें अन्य के खाते में गई थीं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here