उद्धव ठाकरे की कुर्सी पर मंडराया खतरा, राज्यपाल से सिफारिश करने पहुंचे उद्धव, पीएम से भी कर चुके हैं अपील

मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने के 6 महीने के अंदर सीएम उद्धव ठाकरे को विधान परिषद की सदस्यता लेनी थी, लेकिन देश में लॉक डाउन की स्थिति में चुनाव नहीं हो पाया तो अब महाराष्ट्र के सीएम की कुर्सी की रक्षा अब राज्यपाल के हाथ में है।

0
86
Photo: ANI

मुंबई: महाराष्ट्र की गठबंधन सरकार यानि उद्धव ठाकरे की सरकार अब ख़तरे में आ गई है, जिसे बचाने के लिए उद्धव ठाकरे हर तरह का प्रयास कर रहे हैं। इसी सिलसिले में शुक्रवार की सुबह सीएम उद्धव ठाकरे महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोशियारी से मुलाकात करने पहुंचे। राज्यपाल और मुख्यमंत्री के बीच ये बैठक करीब 20 मिनट तक चली। हालांकि महाराष्ट्र दिवस के मौके पर इसे एक औपचारिक भेंट बताया जा रहा है। लेकिन कयास ये लगाया जा रहा है कि ये मुलाकात औपचारिक नहीं बल्कि अपनी सरकार बचाने के कवायत के रुप में देखा जा रहा है। दरअसल, जिस वक्त उद्धव ठाकरे को विधायक दल का नेता चुना गया था और 20 नवंबर को जब उन्होंने मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी, उस वक्त वो विधान परिषद के किसी भी सदन के सदस्य नहीं थे। ऐसी स्थिति में मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने के 6 महीने के अंदर उन्हें विधान परिषद का सदस्यता लेनी थी।

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री के सामने अब ये स्थित पैदा हो गई है कि शपथ लेने के 6 महीने के बाद तक वो विधान परिषद की सदस्यता नहीं ले पाए। उसका एक कारण ये भी हुआ कि कोरोनावायरस संक्रमण की वजह से देश में लॉक डाउन है और ऐसी स्थिति में वो विधान परिषद चुनाव नहीं हो पाया। अब जब उद्धव ठाकरे विधान परिषद के किसी भी सदन के सदस्य नहीं है तो अब उनकी कुर्सी का फैसला अब महाराष्ट्र के गवर्नर भगत सिंह कोशियारी के हाथ में है। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की सिफारिश पर राज्यपाल भगत सिंह कोशियारी ने गुरुवार को चुनाव आयोग से भी अपील की थी कि महाराष्ट्र विधान परिषद के 9 सीटों पर चुनाव कराया जाय। राज भवन की तरफ से जारी पत्र के मुताबिक राजभवन ने चुनाव आयोग से अनुरोध किया गया है कि एक खास दिशा निर्देश पर महाराष्ट्र के इन 9 खाली पड़े सीटों पर चुनाव करवाया जाय।

इससे पहले सीएम ठाकरे ने पीएम नरेन्द्र मोदी से भी अपील की थी कि केन्द्र उनकी मदद करे। पीएम मोदी से बात करते हुए उन्होंने आरोप लगाया था कि महाराष्ट्र में राजनीति अस्थिरता पैदा करने के प्रयास किये जा रहे हैं। ठाकरे ने पीएम मोदी को इस बात से भी अवगत कराया कि उन्होंने राज्यपाल कोशियारी से दो बार बात कर अनुरोध भी किया है कि उन्हें राज्यपाल के कोटे से विधान परिषद भेजा जाए। लेकिन सीएम ठाकरे ने राज्यपाल पर आरोप लगाया है कि इस मामले में राज्यपाल ने अभी तक कोई जवाब नहीं दिया है। हालांकि मिली जानकारी के मुताबिक प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने सीएम उद्धव ठाकरे को हर तरह की मदद करने का भरोसा भी दिया है। वहीं केन्द्रीय चुनाव आयोग ने जरुरी दिशा-निर्देश के साथ महाराष्ट्र की बची हुई 9 विधान परिषद सीटों पर चुनाव कराने का आदेश दे दिया है।