कांग्रेस नेता संजय निरुपम का बयान, “शिवसेना की सरकार में तीसरे नंबर की पार्टी बनना कॉंग्रेस को यहां दफन करने जैसा”

संजय निरुपम अपने ट्वीट में 1996 में उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में हुए कांग्रेस-बसपा के गठबंधन का हवाला दे रहे हैं। उसी के बाद से कांग्रेस के लिए उत्तर प्रदेश में मुश्किलें बढ़ गई और यूपी में कांग्रेस दोबारा नहीं उठ पायी।

0
62

मुंबई: महाराष्ट्र में किसकी सरकार बनेगी इस पर से अबतक सस्पेंस खत्म नहीं हुआ है लेकिन वुधवार को एनसीपी प्रमुख शरद पवार और कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के बीच हुआ बैठक के बाद इसबात का इशारा मिल चुका है कि शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस एकसाथ मिलकर महाराष्ट्र में सरकार बनाएगी। बस इसपर एक औपचारिक ऐलान होना बांकि है। हालांकि अलग विचारधारों वाली तीन अलग अलग पार्टी का एकसाथ आने वाली बात किसी के गले नहीं उतर रहा है। तीनों पार्टियों के बीच हुई इस गठबंधन के बाद से कांग्रेस के महाराष्ट्र प्रदेश इकाई के अंदर से ही विरोध के सुर सुनाई देने लगा है। कांग्रेस नेता संजय निरुपम ने ट्वीट कर कहा है कि महाराष्ट्र में कांग्रेस गलती कर रही है।

कांग्रेस नेता संजय निरुपम ने ट्वीट कर कहा है कि वर्षों पहले उत्तरप्रदेश में बसपा के साथ गठबंधन कर कांग्रेस ने गलती की थी, तब से ऐसी पिटी है कि आजतक नहीं उठ पाई है। महाराष्ट्र में भी कांग्रेस वहीं गलती कर र ही है। शिवसेना की सरकार में तीसरे नंबर की पार्टी बनना कांग्रेस को दफन करने जैसा है। बेहतर होगा कि कांग्रेस अध्यक्ष दबाव में ना आएं। दरअसल ये ट्वीट संजय निरुपम ने तब किया जब एनसीपी के साथ बैठक के बाद कांग्रेस का शिवसेना के साथ आने का संकेत मिलने लगा। क्योंकि संजय निरुपम शुरु से ही इसके खिलाफ हैं कि कांग्रेस शिवसेना के साथ हाथ मिलाये।

इतना ही नहीं संजय निरुपम पहले भी अपने बयानों में कांग्रेस के ही कुछ स्थानीय नेताओं पर इस गठबंधन को लेकर आरोप मढ चुके हैं। आपको बता दें कि संजय निरुपम अपने ट्वीट में 1996 में उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में हुए कांग्रेस-बसपा के गठबंधन का हवाला दे रहे हैं। उसी के बाद से कांग्रेस के लिए उत्तर प्रदेश में मुश्किलें बढ़ गई और यूपी में कांग्रेस दोबारा नहीं उठ पायी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here