दिल्ली में खत्म हुई एनसीपी और कांग्रेस की बैठक, सरकार बनाने की घोषणा के लिये थोड़ा और करना होगा इंतजार

24 अक्टूबर को चुनाव नतीजों के ऐलान के बाद से कोई भी पार्टी महाराष्ट्र में सरकार नहीं बना पाई है। 19 दिनों के इंतजार के बाद राज्यपाल ने राष्ट्रपति शासन की अनुशंसा की और फिर प्रदेश में राष्ट्रपति शासन लगा दिया गया।

0
73
Photo: ANI

नई दिल्ली: महाराष्ट्र में सरकार बनाने और शिवसेना को समर्थन देने के मुद्दे पर एनसीपी और कांग्रेस के बीच चल रही बैठक खत्म हो गई है। बैठक खत्म होने के बाद कांग्रेस नेता और महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री अशोक चह्वान मीडिया के सामने आये और बैठक के बारे में जानकारी दी। मीडिया से बात करते हुए उन्होंने कहा कि शुक्रवार को बांकि के घटक दलों से मुंबई में बातचीत होगी और फिर हो सकता है कि शाम तक शिवसेना के साथ उनकी बैठक हो। वहीं दूसरी तरफ वुधवार को जब एनसीपी चीफ शरद पवार और कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के बीच हुई मुलाकात के बाद ये संकेत मिले थे कि शिवसेना के साथ गठवबंधन के लिए कांग्रेस की तरफ से हरी झंडी मिल चुकी है।

एकतरफ महाराष्ट्र में जहां सरकार के गठन के लिए एनसीपी और कांग्रेस शिवसेना के साथ जाने को तैयार है तो वहीं दूसरी तऱफ कांग्रेस नेता संजय निरुपम इस गठवंधन के विरोध में हैं। उन्होंने ट्वीट करते हुए अपनी मंशा तो जाहिर की ही, साथ ही साथ पार्टी हाईकमान को भी नसीहत दे डाली। वैसे भी जब से कांग्रेस और शिवसेना के साथ आने की बात सामने आई है तब से वो पार्टी के कुछ नेताओं के खिलाफ भी आलोचना करते नज़र आए हैं।

आपको बता दें कि 24 अक्टूबर को चुनाव नतीजों के ऐलान के बाद से कोई भी पार्टी महाराष्ट्र में सरकार नहीं बना पाई है। 19 दिनों के इंतजार के बाद राज्यपाल ने राष्ट्रपति शासन की अनुशंसा की और फिर प्रदेश में राष्ट्रपति शासन लगा दिया गया। राष्ट्रपति शासन लगने के बाद शिवसेना और एनसीपी साथ आए लेकिन कांग्रेस के साथ गठबंधन के चलते एनसीपी को कांग्रेस के साथ की जरुरत पड़ी तो एनसीपी और कांग्रेस के बीच लगातार बैठकों को दौर चलता रहा और आखिरकार कांग्रेस नेता पृथ्वीराज चह्वाण के बयान के बाद ऐसा लगता है कि महाराष्ट्र में सरकार पर से संस्पेंस खत्म हो चुका है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here