कांग्रेस-NCP की बैठक में सरकार गठन पर नहीं हुआ फैसला, NCP ने कहा – चर्चा के बाद उठाएंगे कोई कदम

कांग्रेस-एनसीपी की सांझा प्रेस कॉन्फ्रेंस में एनसीपी ने साफ कहा है कि शिवसेना ने सोमवार को अधिकारिक तौर पर उनसे संपर्क किया है। अब आगे इसपर बैठकर चर्चा करेंगे औऱ फिर फैसला लेंगे।

0
113
Photo: ANI

मुंबई: महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लागू होने का बाद प्रदेश की राजनीति और गर्मा गई है। मंगलवार को एनसीपी-कांग्रेस ने सांझा प्रेस कॉन्फ्रेंस कर अपना बयान जारी किया है। इस प्रेस कॉन्फ्रेस के मौके पर एनसीपी नेता शरद पवार, प्रफुल पटेल तो वहीं कांग्रेस की तरफ से अहमद पटेल, मल्लिकार्जुन खड़के मौजूद थे। इस सांझा प्रेस कॉन्फ्रेंस में कई मुद्दों पर जानकारी दी गई। इसमें कहा गया कि दोनों पार्टियों के बीच चर्चा हुई। लेकिन हां यहां एक नई बात ये जानने को मिली कि एनसीपी के मुताबिक 11 नवंबर यानि सोमवार को पहली बार शिवसेना ने आधिकारिक तौर पर एनसीपी से संपर्क किया था। साथ ही एनसीपी ने ये भी साफ कर दिया कि अब जब आधिकारिक तौर पर संपर्क शिवसेना ने किया है तो इस मुद्दे पर अब बैठ कर चर्चा करने के बाद इसपर आगे फैसला लिया जाएगा।

हालांकि जब प्रेस कॉन्फ्रेन्स में बोलने की बारी कांग्रेस की आई तो कांग्रेस नेता अहमद पटेल ने प्रदेश में राष्ट्रपति शासन लगाने की सिफारिश की आलोचना की। उन्होंने सुप्रीम कोर्ट की गाइडलाइन का हवाला देते हुए बीजेपी सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि बीजेपी की मोदी सरकार ने पिछले 5-7 साल में सुप्रीम कोर्ट की गाइडलाइन नहीं मानी है औऱ अपनी मनमानी की है। बीजेपी पर हमला बोलते हुए उन्होंने कहा कि मैं समझता हूं कि ये लोकतंत्र और संविधान का मजाक उड़ाने की कोशिश की गई है। उन्होंने साफ कहा कि महाराष्ट्र में सरकार बनाने के लिए राज्यपाल ने बीजेपी, शिवसेना और एनसीपी को सरकार बनाने का न्यौता दिया लेकिन कांग्रेस को नहीं दिया।