NCP ने शिवसेना को समर्थन की चिट्ठी सौंपी, सरकार को बाहर से समर्थन देगी कांग्रेस

शिवसेना को समर्थन देने के लिए एनसीपी ने शिवसेना के सामने ये शर्त रखी थी कि एनसीपी समर्थन तभी देगी जब शिवसेना बीजेपी के साथ अपना गठबंधन तोड़ लेगी।

0
132

मुंबई: महाराष्ट्र में सरकार बनने का रास्ता साफ हो गया है। अब अगला मुख्यमंत्री शिवसेना का होगा। एनसीपी ने भी ताबड़तोड़ बैठकों के बाद अपने समर्थन की चिट्ठी शिवसेना को सौंप दी है। वहीं दूसरी तरफ शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे की भी कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से फोन पर बात हुई। बातचीत के दौरान शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को सरकार में शामिल होने का न्यौता दिया। जिसके बाद कांग्रेस शिवसेना को बाहर से समर्थन देने को तैयार हो गई है।

हालांकि शिवसेना को समर्थन देने के लिए एनसीपी ने शिवसेना के सामने ये शर्त रखी थी कि एनसीपी समर्थन तभी देगी जब शिवसेना बीजेपी के साथ अपना गठबंधन तोड़ लेगी और शिवसेना ने एनसीपी की शर्तों को मानते हुए बीजेपी के साथ अपना गठबंधन तोड़ लिया। वही शिवसेना कोटे से मंत्री बने अरविंद सावंत ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया। उनके इस्तीफे के बाद से ही सालों से चला आ रहा शिवसेना और बीजेपी के बीच का गठबंधन टूट गया। बीजेपी के साथ गठबंधन टूटने की घोषणा के कुछ समय बाद ही एनसीपी ने अपना समर्थन पत्र शिवसेना को सौंप दिया।

आपको बात दें कि 28 अक्टूबर को चुनाव नतीजे आने के बाद महाराष्ट्र विधानसभा के लिए बीजेपी ने 105 सीटों पर जीत दर्ज की थी, जबकि शिवसेना को 56 सीटें मिलीं। वहीं राष्ट्रवादी कांग्रेस ने 54 सीटों पर कब्जा किया तो वही कांग्रेस को 44 सीटों पर संतोष करना पड़ा। वही सरकार बनाने के लिए 7 निर्दलिय विधायकों ने भी शिवसेना को अपना समर्थन दिया है।