प्रियंका गांधी ने मौनी अमावस्या के मौके पर प्रयागराज संगम में लगाई डुबकी

संगम में प्रियंका गांधी की यह डुबकी हिंदुत्व काडर की ओर उनके झुकाव को दिखाता प्रतीत हो रहा है। इससे पहले बुधवार को भी प्रियंका सहारनपुर के चिलकाना में किसान महापंचायत में जाने से पहले शक्तिपीठ शाकुंभरी देवी मंदिर में दर्शन के लिए गई थीं।

0
205

प्रयागराज: कांग्रेस महासचिव और उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में कांग्रेस (Congress) की प्रभारी प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi) ने गुरुवार को मौनी अमावस्या के मौके पर प्रयागराज के संगम में डुबकी लगाई। इस मौके पर प्रियंका ने यहां माघ मेले में भी हिस्सा लिया और साथ ही साथ नौका विहार का भी आनंद लिया। इस मौके पर उन्हें काफी आनंद लेते हुए भी देखा गया। मिली जानकारी के मुताबिक प्रियंका गांधी का ये कोई राजनीतिक यात्रा नहीं थी और ना ही किसी भी तरह का राजनीतिक आयोजन ही किया गया था। मिली जानकारी के मुताबिक वो शाम तक दिल्ली वापस भी आ जाएंगी।

हालांकि राजनीतिक जानकारों का ये मानना हा कि प्रियंका गांधी का कोई भी कदम बिना राजनीति से प्रेरित नहीं देखा जा सकता है। उनकी हर योजना और उनका हर कार्यक्रम एक खास मकसद और संदेश के साथ पार्टी की छवि को ध्यान में रखते हुए तैयार किया जाता है। वहीं दूसरी तरफ प्रियंका गांधी उत्तर प्रदेश के लिए अकेली सबसे बड़ी राजनीतिक फेस है। पिछले तीन दशकों से कांग्रेस उत्तर प्रदेश में अपने पैर खड़ी नहीं कर पाई है। ऐसे में प्रियंका गांधी पर एक बड़ी ज़िम्मेदारी है कांग्रेस की छवि को उत्तर प्रदेश के अंदर सुधारना।

हालांकि प्रियंका गांधी के आज के कार्यक्रम को इस तरह से देख सकते हैं कि वो एक आम आदमी की तरह बिना किसी तामझाम के संगम तट पर डुबकी लगाई और साथ ही साथ नौका विहार का आनंद लिया। इस दौरान उन्होंने शंकराचार्य जी से भी मुलाकात की और उसके बाद मीडिया से मुखातिब हुई। वहीं दूसरी तरफ संगम में उनकी यह डुबकी हिंदुत्व काडर की ओर उनके झुकाव को दिखाता प्रतीत हो रहा है। इससे पहले बुधवार को भी प्रियंका सहारनपुर के चिलकाना में किसान महापंचायत में जाने से पहले शक्तिपीठ शाकुंभरी देवी मंदिर में दर्शन के लिए गई थीं।