राममंदिर भूमि पूजन पर फंस सकता है पेंच!शिलान्यास के ख़िलाफ इलाहाबाद हाईकोर्ट में याचिका दायर…

साकेत गोखले में कोर्ट में लेटर पिटिशन दाखिल किया है और ये इलाहाबाद हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस के नाम है। इस पिटिशन में राममंदिर ट्रस्ट के अलावा केंद्र सरकार को भी पक्षकार बनाया गया है।

0
218
File Photo

नई दिल्ली: विवादों में घिर गया है राममंदिर भूमि पूजन। इस कार्यक्रम पर रोक लगाने के लिए इलाहाबाद हाईकोर्ट में एक जनहित याचिका दायर की गई है। इस याचिका में कहा गया है कि भूमि पूजन अनलॉक और कोरोना गाइडलाइन का सरेआम खुला उल्लघंन है। दिल्ली के एक समाज सेवी साकेत गोखले ने इस याचिका को दायर किया है। उन्होंने कोर्ट को बताया है कि इस भूमि पूजन समारोह के लिए करीब 300 लोग जुटने की खबर है, जो कि केंद्रीय गृह मंत्रालय के निर्देश के खिलाफ है। इसलिए याचिका में गोखले ने भूमि पूजन पर रोक लगाने की मांग की है। पीआईएल में इस बात का जिक्र किया गया है कि इससे कोरोना का खतरा और ज्यादा बढ़ेगा, इसलिए इस पर तत्काल रोक लगाया जाए।

याचिकाकर्ता साकेत गोखले ने अपनी याचिका में कहा है कि यूपी सरकार केंद्रीय गृह मंत्रालय के गाइडलाइन में छूट नहीं दे सकती है। साकेत गोखले में कोर्ट में लेटर पिटिशन दाखिल किया है और ये इलाहाबाद हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस के नाम है। इस पिटिशन में राममंदिर ट्रस्ट के अलावा केंद्र सरकार को भी पक्षकार बनाया गया है। हालांकि अभी तक पिटिशन पर सुनवाई कब होगी ये तारीख अभी तय नहीं किया गया है। अयोध्या में भव्य श्रीराम मंदिर के भूमि पूजन का काम आने वाली 5 अगस्त को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा दोपहर के सवा 12 बजे संपन्न किया जाना है। भूमि पूजन के दिन विश्व हिंदू परिषद घर-घर दीप जलाने का कार्यक्रम भी आयोजित करने वाली है। इस दिन प्रत्येक हिंदू परिवार को गौरवमयी अवसर से जोड़ने के लिए वृहद अभियान चलाया जायेगा।

इस दिन जहां देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मंदिर की नींव रखेंगे, तो वहीं दूसरी तरफ घर-घर, गांव-गांव में दीपोत्सव मनाया जायेगा। हालांकि कि राम मंदिर के भूमि पूजन के शुभ मुहूर्त को लेकर भी बखेरा खड़ा हो चुका है। भूमि पूजन के मुहूर्त को लेकर शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद ने भी सवाल खड़े किये है। शंकराचार्य ने कहा कि जिस मुहूर्त में यह किया जा रहा है। वो गलत मुहूर्त है। वहीं स्वामी के जवाब में राममंदिर ट्रस्ट के महंतों ने कहा कि स्वामी आकर शास्त्रार्थ कर लें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here