BIHAR: जलभराव पर युवाओं का अनोखा प्रदर्शन, सड़क पर धान रोपाई कर प्रशासन के ख़िलाफ जताया विरोध…

लंबे समय से टूटी हुई सड़क के चलते यहां हर रोज कोई ना कोई दुर्घटना होती रहती है। जिसकी वजह से यहां के आम जनता में काफी रोष है।

0
385

सहरसा: वुधवार को बिहार के सहरसा जिले के सोनबरसा प्रखंड में युवाओं का अनोखा प्रदर्शन देखने को मिला। दरअसल ये प्रदर्शन जिला प्रशासन के खिलाफ अपना गुस्सा जाहिर करने को लेकर था। इस प्रदर्शन में जो खास बात रही वो थी यहां के स्थानीय युवाओं द्वारा टूटी सड़क पर हुए जलभराव के बीच धान की रोपाई करना। सोनबरसा प्रखंड के मंगवार पंचायत में टूटी सड़क और फिर बरसात में हुए जलभराव को लेकर यहां के युवाओं और स्थानीय नागरिकों का गुस्सा जिला प्रशासन पर फूट पड़ा। कई युवाओं ने जिला प्रशासन का विरोध प्रदर्शन करने के लिए स्थानीय निवासी प्रिंस सिंह के नेतृत्व में सड़क के बीचोबीच हुए जलभराव के बीच धान रोपाई कर और फिर प्रशासन के ख़िलाफ नारेबाजी कर विरोध दर्ज किया। इतना ही नहीं आम नागरिकों में टूटी हुई सड़क पर जलजमाव को लेकर इतना गुस्सा था कि लोगों ने सड़क जाम कर काफी देर तक हंगामा किया।

प्रिंस सिंह ने कहा, ‘लंबे वक्त से आरसीडी के मनमानी और लापरवाही के कारण यहां का काम जस का तस पड़ा हुआ है। इस सड़क के निर्माण का कार्य अब तक पूर्ण रूप से खत्म हो जाना चाहिए। लेकिन जिला प्रशासन तथा आरसीडी के अधिकारियों की लापरवाही के वजह से आज तक पूरा नहीं हो पाया। रोज कोई न कोई घटना यहां होते रहती है। कभी किसी टैंपो पलटने की घटना तो कभी किसी रिक्शा पलटने की घटना से आम नागरिक एवं आम ग्रामीण परेशान हो चुके हैं।’ स्थानीय विधायक ने भी इस समस्या की गंभीरता को देखते हुए कई बार जिला प्रशासन एवं पथ निर्माण विभाग को पत्र और फोन के माध्यम से कई बार संपर्क कर चुके हैं लेकिन प्रशासन ने अभी तक इस सड़क की तरफ ध्यान नहीं दिया है। यहां के लोगों का मानना है कि प्रशासन तब कुंभकरण की नींद से तबतक नहीं जागेगी,जबतक यहां हुए दुर्घटना में किसी की जान ना चली जाय।

वही मंगवार के पंचायत समिति के अध्यक्ष चंदन कुमार सिंह ने कहा, ‘आम युवा एवं ग्रामीण नागरिकों में मंगवार बाजार में टूटी हुई सड़क के वजह से जिला प्रशासन तथा पथ निर्माण विभाग प्रशासन के खिलाफ काफी गुस्सा और आक्रोश है। अगर प्रशासन इस पर जल्द से जल्द ध्यान नहीं देती है तो यहां के सैकड़ों युवाओं के साथ साथ सैकड़ों ग्रामीण आमरण अनशन करने को बाध्य होंगे।’ वही इस धान रोपाई के कार्यक्रम में विकास सिंह (मखिया), चंदन कुमार सिंह (पंचायत समिति), आभाष कुमार सिंह (वार्ड सचिव), राजा सिंह, सुभम, सोनू, सुशांत, हर्षित, आयुष, नितिन सिंह , निशांत, गोलु, प्रशांत, सौरभ, सत्यम, आदित्य, शिवम, किशन, सिंटू, आयुष, प्रणव, दीपक, सुभंकर, अभिषेक , उदित, बिपुल, मंगल, किट्टू, आदित्य, आदि ने हिस्सा लिया।