SPECIAL STORY: मजदूर…भूख और कुत्ता, अब भी मजबूर और बेचारा है मजदूर…

मजदूरों की बेहाली और मजबूरी की तस्वीरें, जिसमें लोग सैकड़ों किलोमीटर पैदल ही चलकर अपने घर लौटते हुए नज़र आयेंगे। कुछ तो घर पहुंच गए, तो कुछ ने रास्ते में ही दुनिया को अलविदा कह दिया।

0
168

देश की सरकार ने देसवासियों के लिए 20 लाख करोड़ के राहत पैकेज का ऐलान किया। लेकिन क्या आज लोगों की मजबूरी कम हुई? क्या मजदूरों के घर में अन्न का दाना पहुंचा? उनके पास अगर जन-धन खाता है तो क्या उस खाते में उनका गुज़ारा करने के लिए पैसा पहुंचा? क्या मजदूरों का अपने गृह राज्य के लिए पलायन रुका? क्या सड़कों पर मजदूरों का परिवार की भूख-प्यास से तर हुई आंखों का खाने के एक पैकेट और पानी के एक बोतल के लिए इंतजार खत्म हुआ? शायद नहीं…और पता नहीं ये इंतजार कभी भी खत्म होगा भी या नहीं। देश के नेता कहते हैं कि अब हमें कोरोना के साथ जीना होगा। चलो हम तैयार हैं कोरोना के साथ जीने के लिए लेकिन क्या सरकार की जिम्मेदारी ख़त्म हो गई? शायद हमारे देश और अलग अलग राज्यों की सरकार ये भूल गई है कि हमारे लाखों लोग आज भी भूखे हैं।

अपने आसपास के हाईवे और एक्सप्रेस वे पर आपको कई मजदूरों का परिवार अपने पीठ पर बैग या बोरा लटकाये अपनी मंजिल की तरफ जाता हुआ दिख जाएगा। उनकी इस बेहाली और मजबूरी की तस्वीरें, जिसमें लोग सैकड़ों किलोमीटर पैदल ही चलकर अपने घर लौटते हुए नज़र आयेंगे। कुछ तो घर पहुंच गए, तो कुछ ने रास्ते में ही दुनिया को अलविदा कह दिया। बिस्कुट और पानी के सहारे मीलों तक का सफ़र तय करने वाले लोगों की तस्वीरें सोशल मीडिया पर बहुत वायरल हुई हैं। कुछ के बारे में तो मैंने भी लेख में लिखा है। दोस्तों इसी कड़ी में एक और दिल तोड़ देने वाला या यूं कहें कि दिल तोड़ने वाला एक वीडियो सामने आया है। ये वीडियो एक ऐसे शख्स का है जो जो दिल्ली-जयपुर हाईवे पर एक मरे हुए कुत्ते को खा रहा था। ये वीडियो मेरे पास मौजूद है लेकिन मैं आपके साथ ये शेयर नहीं कर सकता क्योंकि ये हृदय विदारक है।

लेकिन इस वीडियो को देखने के बाद अंदाज़ा लगाया जा सकता है कि ये वीडियो उस शख्स ने बनाया है जो हाईवे के रास्ते कहीं जा रहा था और अचानक से उसकी नज़र इस शख्स पर पड़ी जो सड़क पर बैठ कर मरा हुआ कुत्ता खा रहा था। उसने गाड़ी रोकी और फिर उससे उसके इस हाल के बारे में पुछा। तो पता चला कि वो एक मजदूर है और उसके पास भी और मजदूरों की तरह भी उसके पास काम नहीं था तो वो अपने गृह राज्य की तरफ पैदल ही निकल पड़ा। उसके पास ना तो पैसे थे और ना ही खाने का खाना। उसे भूख लगी थी और ऐसी भूख जो वो बर्दाश्त नहीं कर सकता था और उसे सड़क पर एक मरा हुआ कुत्ता दिखा तो अपनी भूख मिटाने के लिए वो मरे हुए कुत्ते को ही खाने लगा। मिली जानकारी के मुताबिक उस राहगीर ने उस भूखे मजदूर को सड़क के किनारे जाने को कहा ताकि वो उसे खाना दे सके। उस राहगीर ने उसे खाना दिया और कुछ पैसे भी दिये। किसी फेसबुक यूज़र ने इस वीडियो को अपने फेसबुक वॉल पर शेयर किया और आज ये वीडियो वायरल हो गया।

दोस्तों ना जाने ऐसी कितनी तस्वीरें होंगी, लेकिन जो तस्वीरें सामने आ जाती है वो किसी ना किसी न्यूज़ चैनल, न्यूज पोर्टल या अख़बारों की सुर्खियां बनते हैं लेकिन उनकी बेबसी का क्या जो आज उनको इस हालात का सामना करना पड़ रहा है। राज्य सरकारें कभी बस की बिलों को लेकर तो कभी कौन सी पार्टी कितना मजदूरों के लिए सोचती है वो जताने में आपस में ज़ुबानी जंग लड़ रहे हैं और राजनीति कर रहे हैं। लेकिन इस बीच हमारे ही देश का एक शख्स भूख से बेबस होकर मरे हुए कुत्ते का खा रहा है। दुनिया के कोने कोने में आज भारत का गुनगान हो रहा है लेकिन देश के अंदर की ये हालत देख तो शर्म आती है ऐसे राजनेताओं पर और ऐसी राजनीतिक पार्टियों पर और देश और राज्य की सरकारों पर। सोचने वाली बात ये भी है कि ऐसे राहत पैकेज का क्या करना है जिसके होते हुए भी एक शख्स को सड़क पर मरा हुए कुत्ते का खाना पड़ रहा है।