जम्मू-कश्मीर में सुधरे हालात, रिहा हुए पीडीपी, नैशनल कॉन्फ्रेंस और कांग्रेस के पांच नेता

5 अगस्त 2019 को संसद के दोनों सदनों से पास होने के बाद केन्द्र सरकार ने आर्टिकल 370 के ज्यादातर प्रावधानों को समाप्त कर दिया था, जिससे जम्मू-कश्मीर को मिला विशेष राज्य का दर्जा भी खत्म हो गया।

0
55

जम्मू: जम्मू-कश्मीर में हालात सुधर रहे हैं औऱ इसका जीता-जागता उदाहरण है हिरासत में लिये गए नेताओं को रिहा करना। जम्म-कश्मीर प्रशासन ने इन पांचों नेताओं को रिहा कर दिया है। रिहा किये गए नेताओं में पीपल्स डेमोक्रैटिक पार्टी (पीडीपी) के 2, नैशनल कॉन्फ्रेंस (एनसी) के 2 और कांग्रेस के 1 नेता शामिल हैं। इन सभी नेताओं को आर्टिकल 370 के कई प्रावधानों को हटाए जाने के वक्त से ही हिरासत में रखा गया था। जिन नेताओं को रिहा किया गया है, उसमें इशफाक जब्बार और गुलाम नबी भट, बशीर मीर और जहूर मीर, याशिर रेशी शामिल हैं।

आपको बता दें कि इससे पहले 25 नवंबर को पीडीपी के दिलावर मीर और डेमोक्रैटिक पार्टी नैशनलिस्ट के गुलाम हसन मीर को रिहा किया जा चुका है। 5 अगस्त 2019 को संसद के दोनों सदनों से पास होने के बाद केन्द्र सरकार ने आर्टिकल 370 के ज्यादातर प्रावधानों को समाप्त कर दिया था, जिससे जम्मू-कश्मीर को मिला विशेष राज्य का दर्जा भी खत्म हो गया। इसके साथ ही जम्मू-कश्मीर को विभाजित कर लद्दाख और जम्मू-कश्मीर दो अलग-अलग केंद्र शासित प्रदेश बना दिया गया था। नए प्रवावधानों के मुताबिक जम्मू-कश्मीर में विधानसभा होगी लेकिन लद्दाख चंडीगढ़ की तर्ज पर सीधे तौर पर केंद्र के अधीन रहेगा।

साथ ही आपको य़े भी बता दें कि 5 अगस्त को आर्टिकल 370 को खत्म किए जाने के बाद से ही जम्मू-कश्मीर में इंटरनेट सेवाएं बंद कर दी गई थीं। राज्यभर में प्रदर्शनों की आशंका के चलते भारी मात्रा में सुरक्षाबलों को तैनात किया गया है। हालांकि, अब धीरे-धीरे इंटरनेट सेवाएं शुरू की जा रही हैं और कई इलाकों में सेवाएं शुरु की जा चुकि है। साथ ही केन्द्र सरकार ने 7000 जवानों को वापस बुलाये जाने का भी आदेश दे दिया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here