कोरोना वायरस के कहर से चीन में हलकान , वुहान पूरी तरह से बंद, शहर से बाहर जाने पर भी लगी रोक

केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव प्रीति सुदन ने बताया कि मंगलवार तक भारत के सात हवाईअड्डों पर 43 उड़ानों में सवार कुल 9156 यात्रियों की अत्याधुनिक थर्मल इमेजिंग कैमरे से विस्तृत स्वास्थ्य जांच की गई।

0
410

वुहान/नई दिल्ली: चीन में कोरोना वायरस के चलते हड़कंप मचा हुआ है। इसके फैलने प्रभाव पर रोक लगाने के लिए सरकार काई तरह की कोशिशेँ कर रही है। इसी के मद्देनज़र चीन ने अपने मुख्य शहर वुहान को पूरी तरह से बंद कर दिया है। चीन के हुबेई प्रांत की सरकार ने वुहान शहर में इस ख़तरनाक वायरस के प्रकोप को देखते हुए स्थानीय लोगों के शहर छोड़ने पर अस्थायी रुप से रोक लगा दी है। करीब 11 मिलियन की आबादी वाले इस शहर रेलवे, प्राइवेट ट्रान्सपोर्ट सहित सभी प्रकार के यातायात को बंद कर दिया गया है। वहां के प्रशासन ने चीन में इस खतरनाक वायरस के चलते कम से कम 17 लोगों की मौत के बाद ये फैसला  लिया है।

गुरुवार की सुबह से यहां के सारे पब्लिक ट्रांसपोर्ट, रेलवे स्टेशन और एयरपोर्ट बंद रहें। इस शहर में न तो हवाई परिचालन हुआ और ना ही बस एंव ट्रेनों का संचालन ही हुआ। मिली जानकारी के मुताबिक अकेले वुहान में 600 लोग इस वायरस से प्रभावित हुए हैं। समाचार एजेंसी शिन्हुआ ने रिपोर्ट किया कि अगले नोटिस तक गुरुवार सुबह 10 बजे से वुहान में सभी पब्लिक ट्रांसपोर्ट को सस्पेंड करने और एयरपोर्ट, रेलवे स्टेशनों को बंद करने का फैसला लिया गया है। इसके साथ ही नागरिको शहर से बाहर नहीं जाने के लिए कहा गया है। जब तक को विशेष कारण न हो तब तक कोई भी नागरिक शहर से बाहर नहीं जा सकता।

आपको बता दें कि चीन से थाईलैंड, जापान और कोरिया के बाद अब यह वायरस अमेरिका और हांगकांग में भी पहुंच गया है। वहीं, चीन में इस वायरस से 17 लोगों की मौत के बाद करीब 509 मामले सामने आ चुके हैं। कोरोना वायरस यहां महामारी की तरह फैल रहा है। कोरिया-जापान में इसके एक-एक तो थाईलैंड में तीन मामले पहले ही सामने आ चुके हैं। वहीं, अब अमेरिका और हांगकांग भी इसकी जद में हैं। अमेरिकी अधिकारियों ने मंगलवार को सिएटल में एक व्यक्ति के नए कोरोना वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि की। वहीं, मकाऊ ने बुधवार को एक महिला उद्योगपति में संक्रमण का खुलासा किया। दोनों पीड़ित हाल ही में वुहान (चीन) की यात्रा कर अपने-अपने देश लौटे थे।

वहीं दूसरी तरफ  विश्व स्वास्थ्य संगठन यानि डब्ल्यूएचओ ने बुधवार को एक आपातकालिन बैठक बुलाई, जिसमें इस नए कोरोना वायरस को अंतरराष्ट्रीय स्वास्थ्य आपदा घोषित करने पर विचार किया गया। डब्ल्यूएचओ स्वाइन फ्लू और इबोला के फैलाव के समय भी ऐसा कदम उठा चुका है। चीन के राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग ने बुधवार को इस बात की जानकारी दी है कि नए कोरोना वायरस का सीवियर एक्यूट रेस्पिरेटरी सिंड्रोम (सार्स) से जुड़ाव खतरनाक है। संक्रमित मरीजों के संपर्क में आए 2200 संदिग्ध जांच के दायरे में हैं। वहीं, 715 संदिग्धों को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है।

वहीं भारत में इसके लिए एहतियातन कदम उठाने का काम भी शुरु हो चुका है। केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव प्रीति सुदन ने बताया कि मंगलवार तक भारत के सात हवाईअड्डों पर 43 उड़ानों में सवार कुल 9156 यात्रियों की अत्याधुनिक थर्मल इमेजिंग कैमरे से विस्तृत स्वास्थ्य जांच की गई। इस दौरान किसी भी यात्री के नए कोरोना वायरस से संक्रमित होने के संकेत नहीं मिले हैं।